Home   वैयक्तिक बैंकिंग कॉरपोरेट बैंकिंग एमएसएमई बैंकिंग कृषि बैंकिंग एनआरआई बैंकिंग ग्राहक सेवा
होम    हमारे बारे में     निवेशक     आईडीबीआई समूह     सीएसआर     कैरियर     हमसे संपर्क करें     खोज     English
Net Banking Login
bullet देशी ब्याज दरें
bullet एनआरआई ब्याज दर
bullet सेवा प्रभार
bullet कॉरपोरेट सेवा प्रभार
होम > कारपोरेट > निधि आधारित सहायता > माल लदान के बाद ऋण

लदानोत्तर ऋण का आशय -निर्यातकों को आईडीबीआई बैंक पैकिंग ऋण



निर्यातकों को आईडीबीआई बैंक पैकिंग ऋण

निर्यातकों को अंतर्राष्ट्रीय तुलनीय ब्याज दरों पर अल्पावधि कार्यशील पूंजी वित्तपोषण योजना प्रदान की गयी है.

निर्यात ऋण के प्रकार :

(1)पूर्व- लदान निर्यात ऋण / पैकिंग ऋण (आरपीसी/पीसीएफसी)
(2) लदानोत्तर निर्यात ऋण – विदेशी मुद्रा (एफसीवाई) एवं रुपयों दोनों में.

लदान-पूर्व / पैकिंग ऋण जिसे ‘पैकिंग ऋण’ भी कहा जाता है, एक प्रकार से निर्यातक को लदान पूर्व माल की खरीदी, प्रोसेसिंग, विनिर्माण या पैकिंग के लिए वित्तपोषण के लिए प्रदत्त ऋण / अग्रिम है. पैकिंग ऋण निर्यात या सेवाओं में जुटी कंपनियों को उनके द्वारा मजदूरी, उपयोगिता भुगतान, यात्रा खर्चों आदि पर किए गए व्यय की पूर्ति के लिए कार्यशील पूंजी सहायता के रूप में भी दिया जा सकता है. पैकिंग ऋण की मंजूरी साख पत्र के आधार पर अथवा भारत से सामान / सेवाओं के निर्यात के लिए पुष्टिकृत व अविकल्पी आदेश के आधार पर अथवा भारत से निर्यात के किसी भी आदेश के प्रमाण के आधार पर की जाती है.

लदानोत्तर ऋण का आशय बैंक द्वारा भारत से सामान / सेवाएं निर्यात करने वाले किसी व्यक्ति को दिये गए अग्रिम या ऋण है, जिसकी अवधी सामान के लदान / सेवाओं की प्रदायगी की तारीख से लेकर रिज़र्व बैंक द्वारा विनिर्दिष्ट वसूली की अवधि अथवा समय-समय पर भारत सरकार द्वारा अनुमत किए अनुसार निर्यात राशि की वसूली की तारीख तक के लिए रहती है. रिज़र्व बैंक के मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार निर्यात राशि की वसूली के लिए अनुमत सीमा लदान की तारीख से 12 माह के भीतर है.
होम | शीर्ष
प्रभार अनुसूची : देशी ब्याज दरें : एनआरआई ब्याज दर
दावा अस्वीकरण : वेब मास्टर : साइट मैप : रिज़र्व बैंक : आरटीजीएस : एफएक्यू up Arrow Icon नीतियां : प्रायवेसी : हायपरलिंक : कॉपीराइट : स्क्रीन रीडर एक्सेस