Home   वैयक्तिक बैंकिंग कॉरपोरेट बैंकिंग एमएसएमई बैंकिंग कृषि बैंकिंग एनआरआई बैंकिंग ग्राहक सेवा
होम    हमारे बारे में     निवेशक     आईडीबीआई समूह     सीएसआर     कैरियर     हमसे संपर्क करें     खोज     English
सूचना का अधिकार अधिनियम
आरटीआई – मूल अधिनियम
धारा 4(1)
संपर्क ब्योरे (सीपीआईओ एवं एए)
पारदर्शिता अधिकारी
सीआईसी को वार्षिक विवरणियाँ
सीआईसी को तिमाही विवरणियाँ
bullet देशी ब्याज दरें
bullet एनआरआई ब्याज दर
bullet सेवा प्रभार
bullet कॉरपोरेट सेवा प्रभार
होम > आरटीआई > धारा 4(1) > 4(1)(बी)(iv)

सूचना का अधिकार अधिनियम, 2005



बैंक द्वारा अपने कार्यों का निर्वाह करने के लिए निर्धारित मानदंड

बैंक ने विभिन्न कारोबार/कार्यों के लिए नीतिगत दस्तावेजों,अनुदेश मैनुअलों,परिपत्रों के रूप में सुस्पष्ट आंतरिक नियम और मार्गदर्शी सिद्धांत निर्धारित किए हैं.

बैंक का कारोबार करते समय रिज़र्व बैंक और अन्य प्राधिकारियों, जो भी लागू हो, द्वारा विनिर्दिष्ट एकल उधारकर्ता ऋण जोखिम, समूह ऋण जोखिम, पर्याप्त ऋण जोखिम, संवेदनशील क्षेत्र को ऋण जोखिम, उद्योग को ऋण जोखिम, अप्रतिभूत ऋण जोखिम आदि जैसे विवेकाधीन मानदंडों / ऋण जोखिमों को ध्यान में रखा जाता है.

जमाराशियों के संदर्भ में बैंक भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा निर्धारित खाता खोलने संबंधी मानदंडों,जिनमें अपने ग्राहक को जानिए (केवाईसी) और धन शोधन निवारक (एएमएल) मानदंड शामिल हैं, का पालन करता है.

बैंक वित्त मंत्रालय, कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग और भारत सरकार के अन्य विभागों, भारतीय रिज़र्व बैंक, केंद्रीय सतर्कता आयोग, आदि द्वारा जारी अन्य लागू मानदंडों और मार्गदर्शी सिद्धांतों का भी पालन करता है. बैंक भारतीय बैंकिंग संहिता और मानक बोर्ड (बीसीएसबीआई) के दिशानिर्देशों का भी पालन करता है. (बैंक का ग्राहकों के प्रति प्रतिबद्धता का कोड देखने के ( लिए यहाँ क्लिक करें). .

होम | शीर्ष
प्रभार अनुसूची : देशी ब्याज दरें : एनआरआई ब्याज दर
दावा अस्वीकरण : वेब मास्टर : साइट मैप : रिज़र्व बैंक : आरटीजीएस : एफएक्यू up Arrow Icon नीतियां : प्रायवेसी : हायपरलिंक : कॉपीराइट : स्क्रीन रीडर एक्सेस